जब आपके अन्दर आ जाये की मुझे यह करना है, कितनी भी मुश्किले आने दो मुझे करना है तब पता होगा की अगर मैं यह कर सकता हु, तो मैं यह भी कर सकता, मैं यह भी कर सकता हूँ, वो भी कर सकता हूँ मैं सब कर सकता हूँ।

जब आपके अन्दर आ जाये की मुझे यह करना है, कितनी भी मुश्किले आने दो मुझे करना है तब पता होगा की अगर मैं यह कर सकता हु, तो मैं यह भी कर सकता, मैं यह भी कर सकता हूँ, वो भी कर सकता हूँ मैं सब कर सकता हूँ।

तप क्या है? तप वो है कि ऐसा काम करना जो इस समय इस दुनिया में मानवता के लिए, इस पूरी दुनिया के लिए करना जरुरी है, उसमे आपको चाहे कितना भी दर्द हो रहा है, अगर आप वो कर रहे हो तो तप है नहीं तो अगर आप अपने सेल्फिश इंटरेस्ट के लिए कर रहे हो तो वो तप नहीं ढोंग है।

तप क्या है? तप वो है कि ऐसा काम करना जो इस समय इस दुनिया में मानवता के लिए, इस पूरी दुनिया के लिए करना जरुरी है, उसमे आपको चाहे कितना भी दर्द हो रहा है, अगर आप वो कर रहे हो तो तप है नहीं तो अगर आप अपने सेल्फिश इंटरेस्ट के लिए कर रहे हो तो वो तप नहीं ढोंग है।

बाकि सब मर जाता है लेकिन वो इंस्पीरेशन नहीं मरती, वो अन्दर ही अन्दर जलती रहती है।
-संदीप माहेश्वरी

बाकि सब मर जाता है लेकिन वो इंस्पीरेशन नहीं मरती, वो अन्दर ही अन्दर जलती रहती है। -संदीप माहेश्वरी

आपको खुद की नजर से उठाना है, जो इन्सान खुद की नजर से उठ गया वो दुनिया की नजर से अपने आप उठ जायेगा।
-संदीप माहेश्वरी

आपको खुद की नजर से उठाना है, जो इन्सान खुद की नजर से उठ गया वो दुनिया की नजर से अपने आप उठ जायेगा। -संदीप माहेश्वरी

बिना सोचे काम करना और बिना कुछ काम किये सोचते रहना 100% असफलता देता है।
-संदीप माहेश्वरी

बिना सोचे काम करना और बिना कुछ काम किये सोचते रहना 100% असफलता देता है। -संदीप माहेश्वरी

गलतियां इस बात का सुबूत हैं कि आप प्रयास कर रहे हैं।
-संदीप माहेश्वरी

गलतियां इस बात का सुबूत हैं कि आप प्रयास कर रहे हैं। -संदीप माहेश्वरी

कभी भी खाली मत बैठो, उस वक्त में वो भी सिख लो जिससे आपके करियर का सम्बन्ध नहीं है तब भी वो टाइम पास करने के लाख गुना बहतर होगा।
-संदीप माहेश्वरी

कभी भी खाली मत बैठो, उस वक्त में वो भी सिख लो जिससे आपके करियर का सम्बन्ध नहीं है तब भी वो टाइम पास करने के लाख गुना बहतर होगा। -संदीप माहेश्वरी

जब लोग आपको कहे की आप यह नहीं कर सकते तो ना हमें चुप रहना है ना हमें लड़ना है, बस सवाल करना है कि मैं यह क्यों नहीं कर सकता? फिर देखो उसके कैसे पत्ते खुलते है।
-संदीप माहेश्वरी

जब लोग आपको कहे की आप यह नहीं कर सकते तो ना हमें चुप रहना है ना हमें लड़ना है, बस सवाल करना है कि मैं यह क्यों नहीं कर सकता? फिर देखो उसके कैसे पत्ते खुलते है। -संदीप माहेश्वरी

मेरी इंसपीरेसन क्या है, वही जो मेरे 12 स्टैण्डर्ड में आई थी कि मुझे कुछ करना है आज उस दिन को कई साल हो गए लेकिन ये अब तक गई नहीं।
-संदीप माहेश्वरी

मेरी इंसपीरेसन क्या है, वही जो मेरे 12 स्टैण्डर्ड में आई थी कि मुझे कुछ करना है आज उस दिन को कई साल हो गए लेकिन ये अब तक गई नहीं। -संदीप माहेश्वरी

कामयाबी अनुभव से आती है, और अनुभव ख़राब अनुभव से।
-संदीप माहेश्वरी

कामयाबी अनुभव से आती है, और अनुभव ख़राब अनुभव से। -संदीप माहेश्वरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here