मुझे लगता है कि सर्वश्रेष्ठ कम्पनियाँ शुरू नहीं हुई है, क्योंकि कंपनी का संस्थापक एक कंपनी नहीं चाहता था। वो दुनिया को बदलना चाहता था। अगर आप भी एक कंपनी की स्थापना करना चाहते है। तो शायद आप अपना पहला विचार विकसित कर देंगे और बहुत सारे श्रमिकों को काम भी देंगे।

मुझे लगता है कि सर्वश्रेष्ठ कम्पनियाँ शुरू नहीं हुई है, क्योंकि कंपनी का संस्थापक एक कंपनी नहीं चाहता था। वो दुनिया को बदलना चाहता था। अगर आप भी एक कंपनी की स्थापना करना चाहते है। तो शायद आप अपना पहला विचार विकसित कर देंगे और बहुत सारे श्रमिकों को काम भी देंगे।

हमारा लक्ष्य एक प्लेाटफार्म का निर्माण करना नहीं है, इसे पार करना है।

हमारा लक्ष्य एक प्लेाटफार्म का निर्माण करना नहीं है, इसे पार करना है।

उस चीज को खोजिये जिसे लेकर आप सुपर पैशनेट हों।

उस चीज को खोजिये जिसे लेकर आप सुपर पैशनेट हों।

हमें उन नायकों की और ज्यादा जरूरत है, जो हमारी प्रेरणा बनते हैं।

हमें उन नायकों की और ज्यादा जरूरत है, जो हमारी प्रेरणा बनते हैं।

यदि आप हमेशा वास्तविक पहचान के दबाव में होते हैं, तो मुझे लगता है कि यह आपके लिए बोझ का कुछ हिस्सा है।

यदि आप हमेशा वास्तविक पहचान के दबाव में होते हैं, तो मुझे लगता है कि यह आपके लिए बोझ का कुछ हिस्सा है।

फेसबुक मूल्य रूप से एक कंपनी बनाने के लिए नहीं बनाया गया था यह एक सामाजिक मिशन पूरा करने के लिए बनाया गया था – दुनिया को एक दुसरे से जुड़े रहने के लिए बनाया गया था।

फेसबुक मूल्य रूप से एक कंपनी बनाने के लिए नहीं बनाया गया था यह एक सामाजिक मिशन पूरा करने के लिए बनाया गया था – दुनिया को एक दुसरे से जुड़े रहने के लिए बनाया गया था।

कुछ ना करने के बजाय तो ये अच्छा है कि आप असफल होकर कुछ सीखे।

कुछ ना करने के बजाय तो ये अच्छा है कि आप असफल होकर कुछ सीखे।

बहेतर होगा की आप कोशिश करे और नाकामयाब हो जाये और उससे कुछ सीखे बजाये उसके कि आप कुछ करे ही नहीं।

बहेतर होगा की आप कोशिश करे और नाकामयाब हो जाये और उससे कुछ सीखे बजाये उसके कि आप कुछ करे ही नहीं।

मेरे लिए असली प्रश्न है, क्या लोगों के पास ऐसा कोई टूल है जिससे की वह अपने लिए सही निर्णय ले सकें। और मैं यह सोचता हूँ कि यह बहुत ही जरूरी है कि फेसबुक यह काम आसानी से करे और आसानी से निर्णय ले सके, अगर लोग कुछ इस तरीके से महसूस करते हैं कि उनके पास चीजों को साँझा करने का नियंत्रण नहीं है, तो हम उन्हें हरा रहें हैं।

मेरे लिए असली प्रश्न है, क्या लोगों के पास ऐसा कोई टूल है जिससे की वह अपने लिए सही निर्णय ले सकें। और मैं यह सोचता हूँ कि यह बहुत ही जरूरी है कि फेसबुक यह काम आसानी से करे और आसानी से निर्णय ले सके, अगर लोग कुछ इस तरीके से महसूस करते हैं कि उनके पास चीजों को साँझा करने का नियंत्रण नहीं है, तो हम उन्हें हरा रहें हैं।

फेसबुक में जो बात लोगो को सचमुच मोटीवेट करती है, वो ये है ऐसी चीजें बनाना जिसपे उन्हें गर्व हो।

फेसबुक में जो बात लोगो को सचमुच मोटीवेट करती है, वो ये है ऐसी चीजें बनाना जिसपे उन्हें गर्व हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here