विद्या निरंतर अभ्यास करने से ही आती है।

विद्या निरंतर अभ्यास करने से ही आती है।

धन का लालची श्रीविहीन हो जाता है।

धन का लालची श्रीविहीन हो जाता है।

जहां दो ब्राह्मण खड़े हो उनके बीच कभी मत जाओ क्योंकि ब्राह्मण का क्रोध बहुत बुरा होता है।

जहां दो ब्राह्मण खड़े हो उनके बीच कभी मत जाओ क्योंकि ब्राह्मण का क्रोध बहुत बुरा होता है।

आपसे दूर रह कर भी दूर नही है और वही जो आपके मन मे नही है वह आपके नजदीक रहकर भी दूर है।

आपसे दूर रह कर भी दूर नही है और वही जो आपके मन मे नही है वह आपके नजदीक रहकर भी दूर है।

मन्त्रणा की संपत्ति से ही राज्य का विकास होता है।

मन्त्रणा की संपत्ति से ही राज्य का विकास होता है।

कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।

कार्य-सिद्धि के लिए हस्त-कौशल का उपयोग करना चाहिए।

यदि पेट भरने का नाम ही जीवन है तो यह काम तो आवारा कुत्ते भी कर लेते हैं।

यदि पेट भरने का नाम ही जीवन है तो यह काम तो आवारा कुत्ते भी कर लेते हैं।

जैसे धरती खोदने से उसमें से पानी निकलता है, वैसे ही गुरु की सेवा करने से विद्या प्राप्त होती है, यह बात सदा याद रखें कि गुरु की सेवा के बिना इंसान कभी अच्छी शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकता।

जैसे धरती खोदने से उसमें से पानी निकलता है, वैसे ही गुरु की सेवा करने से विद्या प्राप्त होती है, यह बात सदा याद रखें कि गुरु की सेवा के बिना इंसान कभी अच्छी शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकता।

भविष्य के अन्धकार में छिपे कार्य के लिए श्रेष्ठ मंत्रणा दीपक के समान प्रकाश देने वाली है।

भविष्य के अन्धकार में छिपे कार्य के लिए श्रेष्ठ मंत्रणा दीपक के समान प्रकाश देने वाली है।

मंत्रणा को गुप्त रखने से ही कार्य सिद्ध होता है।

मंत्रणा को गुप्त रखने से ही कार्य सिद्ध होता है।

Kautilya quotes – Success mantra/quotes

जो व्यक्ति पराई औरत को मां के समान, दूसरों के धन को मिट्टी के समान और सब प्राणियों को एक समान मानते हैं वही पंडित होते हैं।

जो व्यक्ति पराई औरत को मां के समान, दूसरों के धन को मिट्टी के समान और सब प्राणियों को एक समान मानते हैं वही पंडित होते हैं।

यदि किसी दुष्ट वंश में बुद्धिमान कन्या हो तो उससे शादी कर लेनी चाहिए, गुण ही सबसे बड़ी विशेषता है।

यदि किसी दुष्ट वंश में बुद्धिमान कन्या हो तो उससे शादी कर लेनी चाहिए, गुण ही सबसे बड़ी विशेषता है।

शक्तिशाली शत्रु को कमजोर समझकर ही उस पर आक्रमण करें।

शक्तिशाली शत्रु को कमजोर समझकर ही उस पर आक्रमण करें।

सबसे बड़ा गुरु मन्त्र है, कभी भी अपने राज़ दूसरों को मत बताएं। ये आपको बर्वाद कर देगा।

सबसे बड़ा गुरु मन्त्र है, कभी भी अपने राज़ दूसरों को मत बताएं। ये आपको बर्वाद कर देगा।

अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।

अस्थिर मन वाले की सोच स्थिर नहीं रहती।

बुद्धिमान व्यक्ति का कोई दुश्मन नहीं होता।

बुद्धिमान व्यक्ति का कोई दुश्मन नहीं होता।

हे बुद्धिमान लोगों! अपना धन उन्ही को दो जो उसके योग्य हों और किसी को नहीं। बादलों के द्वारा लिया गया समुद्र का जल हमेशा मीठा होता है।

हे बुद्धिमान लोगों! अपना धन उन्ही को दो जो उसके योग्य हों और किसी को नहीं। बादलों के द्वारा लिया गया समुद्र का जल हमेशा मीठा होता है।

इस धरती पर तीन रत्न है, अनाज, पानी और मीठे शब्द। मुर्ख लोग पत्थरो के टुकडो को ही रत्न समझते है।

इस धरती पर तीन रत्न है, अनाज, पानी और मीठे शब्द। मुर्ख लोग पत्थरो के टुकडो को ही रत्न समझते है।

दान देने से दरिद्रता दूर होती है, जो लोग दूसरों के दुख दूर करते हैं, भगवान उनके दुख हमेशा दूर करता है।

दान देने से दरिद्रता दूर होती है, जो लोग दूसरों के दुख दूर करते हैं, भगवान उनके दुख हमेशा दूर करता है।

दौलत, दोस्त, पत्नी और राज्य दोबारा हासिल किये जा सकते हैं, लेकिन ये शरीर दोबारा हासिल नहीं किया जा सकता।

दौलत, दोस्त, पत्नी और राज्य दोबारा हासिल किये जा सकते हैं, लेकिन ये शरीर दोबारा हासिल नहीं किया जा सकता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here