करो बड़े शौक से मोहब्बत ऐ चाहने वालों, मगर सोच लेना किसी काम के ना रहोगे बिछड़ने के बाद।

करो बड़े शौक से मोहब्बत ऐ चाहने वालों, मगर सोच लेना किसी काम के ना रहोगे बिछड़ने के बाद।

हंसकर भी देख लिया रोकर भी देख लिया, किसी को पाके खोकर भी देख लिया, प्यार किया और ये भी जान लिया की, ज़िंदगी वही जी सकता है जिसने अकेले जीना सिख लिया।

हंसकर भी देख लिया रोकर भी देख लिया, किसी को पाके खोकर भी देख लिया, प्यार किया और ये भी जान लिया की, ज़िंदगी वही जी सकता है जिसने अकेले जीना सिख लिया।

प्यार तो सब ही करते हैं, पर निभाते हैं कुछ ही लोग, दोस्तों क्या है प्यार बताओ ना, दिल का चैन या दिल का रोग।

प्यार तो सब ही करते हैं, पर निभाते हैं कुछ ही लोग, दोस्तों क्या है प्यार बताओ ना, दिल का चैन या दिल का रोग।

ये दुनिया ग़मों का मेला है, हमने भी हर गम झेला है, करे हम उनसे क्या शिकवा, यहाँ पर हर कोई अकेला है।

ये दुनिया ग़मों का मेला है, हमने भी हर गम झेला है, करे हम उनसे क्या शिकवा, यहाँ पर हर कोई अकेला है।

कहां कोई ऐसा मिला जिसपे दिल लुटा देते, हर एक ने धोखा दिया किस किसको भुला देते, अपने दिल का दर्द दिल ही में दबाये रखना है, करते बयां तो महफ़िल को रुला देते।

कहां कोई ऐसा मिला जिसपे दिल लुटा देते, हर एक ने धोखा दिया किस किसको भुला देते, अपने दिल का दर्द दिल ही में दबाये रखना है, करते बयां तो महफ़िल को रुला देते।

समझ ना सके उनकी बातों को, हम प्यार के नशे में चूर थें, आज समझ में आया, जिसके लिए हम जान छिड़कते थें, वो दिल तोड़ने के लिये मशहूर थें।

समझ ना सके उनकी बातों को, हम प्यार के नशे में चूर थें, आज समझ में आया, जिसके लिए हम जान छिड़कते थें, वो दिल तोड़ने के लिये मशहूर थें।

आखिर दिल अपना तोड़ना ही पड़ा हमें, रुख उनसे मोड़ना पड़ा हमें, इतनी मोहब्बत की उनसे क्या बताये, यारों उनकी ख़ुशी के लिये उन्हें ही छोड़ना पड़ा हमें।

आखिर दिल अपना तोड़ना ही पड़ा हमें, रुख उनसे मोड़ना पड़ा हमें, इतनी मोहब्बत की उनसे क्या बताये, यारों उनकी ख़ुशी के लिये उन्हें ही छोड़ना पड़ा हमें।

उनकी एक नजर को तरसते रहेंगे, ये आंसू हर बार बरसते रहेंगे, कभी बीते थे कुछ पल उनके साथ, बस यही सोच कर हसते रहेंगे।

उनकी एक नजर को तरसते रहेंगे, ये आंसू हर बार बरसते रहेंगे, कभी बीते थे कुछ पल उनके साथ, बस यही सोच कर हसते रहेंगे।

इस कदर शिद्द्त से चाहा था मैंने उसको, अगर दुश्मन भी होता तो साथ निभाता उमर भर।

इस कदर शिद्द्त से चाहा था मैंने उसको, अगर दुश्मन भी होता तो साथ निभाता उमर भर।

तेरी हंसी के आगे मेरे आंसू कुछ भी नहीं, तेरी ख़ुशी के आगे मेरे गम कुछ भी नहीं, तू जहाँ भी रहे खुश रहे… तेरी ज़िंदगी के आगे मेरी मौत कुछ भी नहीं।

तेरी हंसी के आगे मेरे आंसू कुछ भी नहीं, तेरी ख़ुशी के आगे मेरे गम कुछ भी नहीं, तू जहाँ भी रहे खुश रहे… तेरी ज़िंदगी के आगे मेरी मौत कुछ भी नहीं।

तड़पता हूँ नींद के लिए तो दिल से यही दुआ निकलती हैं यारों बहुत बुरी चीज है ये मोहब्बत किसी दुश्मन को भी ना हो।

तड़पता हूँ नींद के लिए तो दिल से यही दुआ निकलती हैं यारों बहुत बुरी चीज है ये मोहब्बत किसी दुश्मन को भी ना हो।

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके, कट गयी उम्र किसी से प्यार ना कर सके, तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई मांगी, और हम थे की इंकार न कर सके।

तुझे चाहा भी तो इजहार न कर सके, कट गयी उम्र किसी से प्यार ना कर सके, तूने माँगा भी तो अपनी जुदाई मांगी, और हम थे की इंकार न कर सके।

सारी-सारी रात ना सोये हम, रातों को उठ उठ के खूब रोये हम, बस इक बार मेरा कसूर बता दे, इतना प्यार करके भी क्यूँ ना तेरे हुए हम।

सारी-सारी रात ना सोये हम, रातों को उठ उठ के खूब रोये हम, बस इक बार मेरा कसूर बता दे, इतना प्यार करके भी क्यूँ ना तेरे हुए हम।

हो चुके अब तुम किसी के, कभी मेरी ज़िंदगी थे तुम, भूलता है कौन मोहब्बत पहली, मेरी तो सारी ख़ुशी थे तुम।

हो चुके अब तुम किसी के, कभी मेरी ज़िंदगी थे तुम, भूलता है कौन मोहब्बत पहली, मेरी तो सारी ख़ुशी थे तुम।

आज क्यों अजीब सा लगने लगी है, दिल की धड़कने बढ़ने लगी है, पास तो नहीं है वो मेरे, फिर क्यों ऐसा लगता है की, वो हमसे दूर जाने लगी है।

आज क्यों अजीब सा लगने लगी है, दिल की धड़कने बढ़ने लगी है, पास तो नहीं है वो मेरे, फिर क्यों ऐसा लगता है की, वो हमसे दूर जाने लगी है।

अब आंसुओ को आँखों में सजाना होगा, चिराग बुझ गये अब खुद को जलाना होगा, ना समझना की तुमसे बिछड़ के खुश हैं हम, हमें लोगों के खातिर मुस्कुराना होगा।

अब आंसुओ को आँखों में सजाना होगा, चिराग बुझ गये अब खुद को जलाना होगा, ना समझना की तुमसे बिछड़ के खुश हैं हम, हमें लोगों के खातिर मुस्कुराना होगा।

हमने भी किसी से प्यार किया था, कम नहीं बेशुमार किया था, ज़िंदगी बदल गयी थी तब उसने कहा की, पागल तू सच समझ बैठा मैने तो मजाक किया था।

हमने भी किसी से प्यार किया था, कम नहीं बेशुमार किया था, ज़िंदगी बदल गयी थी तब उसने कहा की, पागल तू सच समझ बैठा मैने तो मजाक किया था।

लफ़्ज़ों में मोहब्बत का इजहार क्या करते हम पहले से चोट खा के बैठे थें, किसको प्यार क्या करते।

लफ़्ज़ों में मोहब्बत का इजहार क्या करते हम पहले से चोट खा के बैठे थें, किसको प्यार क्या करते।

एक दिल है दर्द हज़ारों हैं, एक दिल है और ज़ख्म हज़ारो हैं, जितना भी करूँ कोशिश पर छुपाये नहीं जाते, शायद यही मेरा तकदीर है।

एक दिल है दर्द हज़ारों हैं, एक दिल है और ज़ख्म हज़ारो हैं, जितना भी करूँ कोशिश पर छुपाये नहीं जाते, शायद यही मेरा तकदीर है।

मजबूरियां हमारी वो जान ना सके, गुज़ारिशें हमारी वो मान ना सके, कहते हैं वो मरने के बाद भी याद रखेंगे हमें, जो जीते जी हमें पहचान ना सके।

मजबूरियां हमारी वो जान ना सके, गुज़ारिशें हमारी वो मान ना सके, कहते हैं वो मरने के बाद भी याद रखेंगे हमें, जो जीते जी हमें पहचान ना सके।

कुछ वक़्त पहले मुझे भी ज़िंदगी ने आजमाया था, किसी के साथ मैंने भी हँसता हुआ पल बिताया था, रोता हुआ छोड़ गए तो क्या हुआ, हंसना भी तो उसी ने सिखाया था।

कुछ वक़्त पहले मुझे भी ज़िंदगी ने आजमाया था, किसी के साथ मैंने भी हँसता हुआ पल बिताया था, रोता हुआ छोड़ गए तो क्या हुआ, हंसना भी तो उसी ने सिखाया था।

जो उसके साथ गुज़ारी वो ज़िंदगी थी मेरी, फिर उसके बाद गुज़ारा है ज़िंदगी ने मुझे।

जो उसके साथ गुज़ारी वो ज़िंदगी थी मेरी, फिर उसके बाद गुज़ारा है ज़िंदगी ने मुझे।

जिसे चाहा मैंने खुद से ज्यादा, आज उसी ने मेरा साथ छोड़ कर कहा, तुम्हारा प्यार पागलों वाला है और मैं पागल के साथ नहीं रह सकती।

जिसे चाहा मैंने खुद से ज्यादा, आज उसी ने मेरा साथ छोड़ कर कहा, तुम्हारा प्यार पागलों वाला है और मैं पागल के साथ नहीं रह सकती।

आती रही वो याद भुलाने के बाद, जलता रहा चिराग बुझाने के बाद, जादू है तेरे नाम में या मेरी आँखों में, दिखता है तेरा नाम मिटाने के बाद।

आती रही वो याद भुलाने के बाद, जलता रहा चिराग बुझाने के बाद, जादू है तेरे नाम में या मेरी आँखों में, दिखता है तेरा नाम मिटाने के बाद।

तुमसे बिछड़ कर अच्छा नहीं लगता, फासलों में रहना अच्छा नहीं लगता, हम तुम्हें हर पल याद करते हैं, मगर बार-बार भी तो ये कहना अच्छा नहीं लगता।

तुमसे बिछड़ कर अच्छा नहीं लगता, फासलों में रहना अच्छा नहीं लगता, हम तुम्हें हर पल याद करते हैं, मगर बार-बार भी तो ये कहना अच्छा नहीं लगता।

प्यार तो ज़िंदगी का अफसाना है, इसका अपना ही एक तराना है, पता है सबको मिलेंगे सिर्फ आंसू, पर ना जाने हर कोई क्यों इसका दीवाना है।

प्यार तो ज़िंदगी का अफसाना है, इसका अपना ही एक तराना है, पता है सबको मिलेंगे सिर्फ आंसू, पर ना जाने हर कोई क्यों इसका दीवाना है।

रोने की सजा है ना रुलाने की सजा है, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सजा है, हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आंसू, ये एक शख्स से दिल लगाने की सजा है।

रोने की सजा है ना रुलाने की सजा है, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सजा है, हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आंसू, ये एक शख्स से दिल लगाने की सजा है।

ये कैसी जुदाई है जिसने हमें शायर बना दिया, ये कैसा गम है जिसने हमें बेबस बना दिया, सोचा नहीं था जुदा हो जाओगे हमसे कभी, करते भी क्या जब आपने ही गैर बना दिया।

ये कैसी जुदाई है जिसने हमें शायर बना दिया, ये कैसा गम है जिसने हमें बेबस बना दिया, सोचा नहीं था जुदा हो जाओगे हमसे कभी, करते भी क्या जब आपने ही गैर बना दिया।

ज़ुबां खामोश दिल गुमसुम मगर ये आँख नम क्यों है, जो अपने ही ना हो सके उन्हें खोने का क्या गम हैं।

ज़ुबां खामोश दिल गुमसुम मगर ये आँख नम क्यों है, जो अपने ही ना हो सके उन्हें खोने का क्या गम हैं।

किसी दर्द को संभाल पाना आसान नहीं, हँसते हुए हर पल बिता पाना आसान नहीं, ज़िंदगी में हर कोई दिल में नहीं बस पाता, और उस एक बसे हुए को भूल पाना आसान नहीं।

किसी दर्द को संभाल पाना आसान नहीं, हँसते हुए हर पल बिता पाना आसान नहीं, ज़िंदगी में हर कोई दिल में नहीं बस पाता, और उस एक बसे हुए को भूल पाना आसान नहीं।

एक दिन हमारी आँखों ने भी थक कर हमसे कह दिया, ख्वाब वो देखा करो जो पुरे हो रोज़ रोज़ हमसे रोया नहीं जाता।

एक दिन हमारी आँखों ने भी थक कर हमसे कह दिया, ख्वाब वो देखा करो जो पुरे हो रोज़ रोज़ हमसे रोया नहीं जाता।

ये गम बस तेरी जुदाई का है, ये एक आम किस्सा बेवफाई का है, आंसू ही मिलेंगे हमें भी अब, ये सिला बस तेरी रुसवाई का है।

ये गम बस तेरी जुदाई का है, ये एक आम किस्सा बेवफाई का है, आंसू ही मिलेंगे हमें भी अब, ये सिला बस तेरी रुसवाई का है।

ना कर तमन्ना ऐ दिल उसे पाने की, बहुत ही बेदर्द है निगाहें इस जमाने की, खुद को काबिल बना ले इस तरह, लोग तमन्ना रखे तुझे पाने की।

ना कर तमन्ना ऐ दिल उसे पाने की, बहुत ही बेदर्द है निगाहें इस जमाने की, खुद को काबिल बना ले इस तरह, लोग तमन्ना रखे तुझे पाने की।

कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए, जब भी तेरी याद आयी तुझे भुला के रोये, एक तेरा ही तो नाम था जिसे हजार बार लिखा, जितना लिख के खुश हुए उससे ज्यादा मिटा के रोए।

कभी रो के मुस्कुराए, कभी मुस्कुरा के रोए, जब भी तेरी याद आयी तुझे भुला के रोये, एक तेरा ही तो नाम था जिसे हजार बार लिखा, जितना लिख के खुश हुए उससे ज्यादा मिटा के रोए।

इतने ज़ख्म खाये हुए हैं, अब इश्क़ भी होता नहीं, डर लगता है इस जमाने में, कहीं सब बेवफा तो नहीं।

इतने ज़ख्म खाये हुए हैं, अब इश्क़ भी होता नहीं, डर लगता है इस जमाने में, कहीं सब बेवफा तो नहीं।

कितनी हसरत थी हमें उन्हें दिल में बसाने की, आज सोच के ही आँखों से पानी आ जाता है, लोग मिलते हैं और मिलकर बिछड़ जाते हैं, हम यहां अकेले थे और अकेले ही रह जाते हैं।

कितनी हसरत थी हमें उन्हें दिल में बसाने की, आज सोच के ही आँखों से पानी आ जाता है, लोग मिलते हैं और मिलकर बिछड़ जाते हैं, हम यहां अकेले थे और अकेले ही रह जाते हैं।

दिल मेरा चुराया क्यूँ जब ये दिल तोड़ना ही था, हमसे दिल लगाया क्यूँ जब हमसे मुंह तोड़ना ही था।

दिल मेरा चुराया क्यूँ जब ये दिल तोड़ना ही था, हमसे दिल लगाया क्यूँ जब हमसे मुंह तोड़ना ही था।

तुमने हमको छोड़ तो दिया, मगर एक बात तो बताये जाओ, हमने तुमसे वफ़ा नहीं की या तुम्हें तलाश किसी बेवफा की थी?

तुमने हमको छोड़ तो दिया, मगर एक बात तो बताये जाओ, हमने तुमसे वफ़ा नहीं की या तुम्हें तलाश किसी बेवफा की थी?

भटकते रहे हैं बादल की तरह, सीने से लगा लो आँचल की तरह, गम के रास्ते पर ना छोड़ना अकेले, वरना टूट जाएंगे पायल की तरह।

भटकते रहे हैं बादल की तरह, सीने से लगा लो आँचल की तरह, गम के रास्ते पर ना छोड़ना अकेले, वरना टूट जाएंगे पायल की तरह।

वो अक्सर मुझे कहती थी, तुम्हें तो अपना बनाकर छोडूंगी, आज उसने अपनी बात सच कर दी, उसने मुझे अपना बनाकर ही छोड़ दिया।

वो अक्सर मुझे कहती थी, तुम्हें तो अपना बनाकर छोडूंगी, आज उसने अपनी बात सच कर दी, उसने मुझे अपना बनाकर ही छोड़ दिया।

कोई दिखा के रोये, कोई छुपा के रोये, हमको रुलाने वाले हमको रुला के रोये, मरने का मजा तो तब है यारों, जब कातिल भी जनाज़े पे आ के रोये।

कोई दिखा के रोये, कोई छुपा के रोये, हमको रुलाने वाले हमको रुला के रोये, मरने का मजा तो तब है यारों, जब कातिल भी जनाज़े पे आ के रोये।

भूल जा पागल दुनिया से दिल लगाना! वफ़ा करो तो सजा देते है खामोश रहो तो भुला देते हैं।

भूल जा पागल दुनिया से दिल लगाना! वफ़ा करो तो सजा देते है खामोश रहो तो भुला देते हैं।

कैसे कहें की ज़िंदगी क्या देती है, हर कदम पर ये दगा देती है, जिनकी जान से भी ज्यादा कीमत हो दिल में, उन्ही से दूर रहने की सजा देती है।

कैसे कहें की ज़िंदगी क्या देती है, हर कदम पर ये दगा देती है, जिनकी जान से भी ज्यादा कीमत हो दिल में, उन्ही से दूर रहने की सजा देती है।

ज़िंदगी सबको हंसाये जरुरी तो नहीं, मोहब्बत सबको मिल जाए जरुरी तो नहीं, कुछ लोग बहुत याद आते हैं ज़िंदगी में, वो भी हमें याद करे जरुरी तो नहीं।

ज़िंदगी सबको हंसाये जरुरी तो नहीं, मोहब्बत सबको मिल जाए जरुरी तो नहीं, कुछ लोग बहुत याद आते हैं ज़िंदगी में, वो भी हमें याद करे जरुरी तो नहीं।

ज़रा सी ज़िंदगी है अरमान बहुत है, हमदर्द नहीं कोई पर इंसान बहुत है, दिल का दर्द सुनाये किसको, जो शख्स दिल के करीब है वो अंजान बहुत है।

ज़रा सी ज़िंदगी है अरमान बहुत है, हमदर्द नहीं कोई पर इंसान बहुत है, दिल का दर्द सुनाये किसको, जो शख्स दिल के करीब है वो अंजान बहुत है।

एक कसक दिल में दबी रह गयी, ज़िंदगी में उनकी कमी रह गयी, इतना प्यार करने के बाद भी मुझे ना मिली, शायद मेरी मोहब्बत में ही कुछ कमी रह गयी।

एक कसक दिल में दबी रह गयी, ज़िंदगी में उनकी कमी रह गयी, इतना प्यार करने के बाद भी मुझे ना मिली, शायद मेरी मोहब्बत में ही कुछ कमी रह गयी।

जाने दो उन्हें गैरों की महफ़िल में, क्यूंकि इतनी चाहत के बाद जो मेरा ना हुआ, वो किसी और का क्या होगा।

जाने दो उन्हें गैरों की महफ़िल में, क्यूंकि इतनी चाहत के बाद जो मेरा ना हुआ, वो किसी और का क्या होगा।

हमें तो अपनों ने मारा गैरों में कहाँ दम था, हमें तो अपनों ने मारा गैरों में कहाँ दम था, मेरी कश्ती भी वहां डूबी जहां पानी कम था।

हमें तो अपनों ने मारा गैरों में कहाँ दम था, हमें तो अपनों ने मारा गैरों में कहाँ दम था, मेरी कश्ती भी वहां डूबी जहां पानी कम था।

तेरी दुनिया में मुझे एक पल देदे, मेरी बेरुखी ज़िंदगी को गुज़रा हुआ कल देदे, वो वक़्त जो गुज़रे थे साथ तेरे, अब उन्हें भूल पाऊं ऐसा कोई हाल देदे।

तेरी दुनिया में मुझे एक पल देदे, मेरी बेरुखी ज़िंदगी को गुज़रा हुआ कल देदे, वो वक़्त जो गुज़रे थे साथ तेरे, अब उन्हें भूल पाऊं ऐसा कोई हाल देदे।

यारों ये दुनिया है बेदर्दों की, यहाँ हर रोज़ छुपाना पड़ता है, दिल में है लाखों ज़ख्म फिर भी, महफ़िल में तो मुस्कुराना पड़ता है।

यारों ये दुनिया है बेदर्दों की, यहाँ हर रोज़ छुपाना पड़ता है, दिल में है लाखों ज़ख्म फिर भी, महफ़िल में तो मुस्कुराना पड़ता है।

तुम्हारी दुनिया से बहुत दूर चले जायेंगे, तुम्हारी हंसती हुई आँखों में आंसू छोड़ जायेंगे, आज तुम हमसे तंग हो, पर एक दिन तंग होने को तरस जाओगे।

तुम्हारी दुनिया से बहुत दूर चले जायेंगे, तुम्हारी हंसती हुई आँखों में आंसू छोड़ जायेंगे, आज तुम हमसे तंग हो, पर एक दिन तंग होने को तरस जाओगे।

खफा होने से पहले खता बता देना, रोने से पहले हसना सीखा देना, अगर जा रहे हो हमसे दूर तुम, तो जाने से पहले जुदाई में रहना सीखा देना।

खफा होने से पहले खता बता देना, रोने से पहले हसना सीखा देना, अगर जा रहे हो हमसे दूर तुम, तो जाने से पहले जुदाई में रहना सीखा देना।

अब किसी की साथ की जरूरत नहीं ज़िंदगी में, क्योंकि इन तन्हाइयों ने मुझे तनहा जीना सीखा दिया है।

अब किसी की साथ की जरूरत नहीं ज़िंदगी में, क्योंकि इन तन्हाइयों ने मुझे तनहा जीना सीखा दिया है।

पलकों को जो हमने भिगोया नहीं, वो सोचते हैं के हम कभी रोये नहीं, पूछते हैं के किसे देखते हो ख्वाबों में, उन्हें क्या पता के हम सदियों से सोये नहीं।

पलकों को जो हमने भिगोया नहीं, वो सोचते हैं के हम कभी रोये नहीं, पूछते हैं के किसे देखते हो ख्वाबों में, उन्हें क्या पता के हम सदियों से सोये नहीं।

ज़िंदगी को किसने देखा, ज़िंदगी को किसने देखा, मुझे तो ये भी पता ना था, कि जिसको मैंने देखा, उसको खुदा ने देख लिया और मुझसे दूर कर दिया।

ज़िंदगी को किसने देखा, ज़िंदगी को किसने देखा, मुझे तो ये भी पता ना था, कि जिसको मैंने देखा, उसको खुदा ने देख लिया और मुझसे दूर कर दिया।

पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम, गलती हुई क्यूंकि इंसान थे हम, आज जिन्हे नज़रे मिलाने में तकलीफ होती है, कभी उसी शख्स की जान थे हम।

पत्थरों से प्यार किया नादान थे हम, गलती हुई क्यूंकि इंसान थे हम, आज जिन्हे नज़रे मिलाने में तकलीफ होती है, कभी उसी शख्स की जान थे हम।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here