अनदेखे धागो से यूँ बांध गया कोई, वो साथ भी नही और हम आजाद भी नही।

अनदेखे धागो से यूँ बांध गया कोई, वो साथ भी नही और हम आजाद भी नही।

गलती भले किसी की भी रही हो यारा, रिश्ता तो हमारा ही था ना जो टूट गया।

गलती भले किसी की भी रही हो यारा, रिश्ता तो हमारा ही था ना जो टूट गया।

अगर ना ही कहना था तो थोड़ा पहले बता देती, अभी अभी मेरी मां ने तुम्हारी तस्वीर देखकर हां बोला है।

अगर ना ही कहना था तो थोड़ा पहले बता देती, अभी अभी मेरी मां ने तुम्हारी तस्वीर देखकर हां बोला है।

इश्क में मुनाफा कम नुकसान ज्यादा होगा, काश यह जान लेते तेरे बाद मेरा क्या होगा।

इश्क में मुनाफा कम नुकसान ज्यादा होगा, काश यह जान लेते तेरे बाद मेरा क्या होगा।

मेरी जिंदगी से मेरी खुशीयां लेकर चली गई वो, मेरे सुन्दर से घर को मकान बनाकर चली गई वो।

मेरी जिंदगी से मेरी खुशीयां लेकर चली गई वो, मेरे सुन्दर से घर को मकान बनाकर चली गई वो।

अगर ना ही कहना था तो थोड़ा पहले बता देती, अभी अभी मेरी मां ने तुम्हारी तस्वीर देखकर हां बोला है।

अगर ना ही कहना था तो थोड़ा पहले बता देती, अभी अभी मेरी मां ने तुम्हारी तस्वीर देखकर हां बोला है।

उसके पास बैठे-बैठे मैंने भी सुबह से शाम कर दी, आखिर आखिरी बार मिलने आई थी वो।

उसके पास बैठे-बैठे मैंने भी सुबह से शाम कर दी, आखिर आखिरी बार मिलने आई थी वो।

एक सादगी ही बची हैं मुझमें ऐ दोस्त, लूटने वाले ने बस यही छोड़ा हैं।

एक सादगी ही बची हैं मुझमें ऐ दोस्त, लूटने वाले ने बस यही छोड़ा हैं।

उस रोज़ से मुझे चाय से भी कितनी नफ़रत हुई होगी, जिस रोज़ बुलाकर चाय पर मुझे रुख़्सत किया उसने।

उस रोज़ से मुझे चाय से भी कितनी नफ़रत हुई होगी, जिस रोज़ बुलाकर चाय पर मुझे रुख़्सत किया उसने।

उन्हें लगता है उनको अपनी ज़ेहन से निकाल दिया हमने, असल में तो उनकी यादों ने खुद्येर कर रख दिया हमें।

उन्हें लगता है उनको अपनी ज़ेहन से निकाल दिया हमने, असल में तो उनकी यादों ने खुद्येर कर रख दिया हमें।

तुम लोग समझते क्यों नहीं बात ये नही की मोहब्बत न मिली हादसा ये है की ठुकराया गया हूँ मैं।

तुम लोग समझते क्यों नहीं बात ये नही की मोहब्बत न मिली हादसा ये है की ठुकराया गया हूँ मैं।

अगर तुम्हें वक्त मिले तो अपनी यादों को समझा दो, एक कर्जदार कि तरह हमें दिन रात तंग करती हैं।

अगर तुम्हें वक्त मिले तो अपनी यादों को समझा दो, एक कर्जदार कि तरह हमें दिन रात तंग करती हैं।

लाख वजह दिया मैंने साथ रहने के। मेरी एक गलती को वजह बता कर वो चल दिये।

लाख वजह दिया मैंने साथ रहने के। मेरी एक गलती को वजह बता कर वो चल दिये।

हम ख़ुद की पहचान बनाते रहे इस जहां में आज तक, और एक इश्क़ ने हमें सरेआम बदनाम कर दिया।

हम ख़ुद की पहचान बनाते रहे इस जहां में आज तक, और एक इश्क़ ने हमें सरेआम बदनाम कर दिया।

तुम्हे याद तो नहीं करता मैं, बस याद आ जाती है तुम्हारी।

तुम्हे याद तो नहीं करता मैं, बस याद आ जाती है तुम्हारी।

निकलते-निकलते निकल ही गया फिर वो शख्स हाथ से, यकीन माने मेरा तुम मैंने हाथ थामने में पूरी जान लगा दी थी।

निकलते-निकलते निकल ही गया फिर वो शख्स हाथ से, यकीन माने मेरा तुम मैंने हाथ थामने में पूरी जान लगा दी थी।

मिली है बेवफ़ाई जब से, ना मैने दिल फिर लगाये, तुम्हारी दोस्ती से बेहतर, मुझे मौत ही आ जाये।

मिली है बेवफ़ाई जब से, ना मैने दिल फिर लगाये, तुम्हारी दोस्ती से बेहतर, मुझे मौत ही आ जाये।

हमारी छोटी छोटी नोक-झोंक पर लोगों ने हमें क्यूट कपल कह दिया पर उन्हीं नोक-झोंक ने हमारा ब्रेक अप करवा दिया।

हमारी छोटी छोटी नोक-झोंक पर लोगों ने हमें क्यूट कपल कह दिया पर उन्हीं नोक-झोंक ने हमारा ब्रेक अप करवा दिया।

चलो वापस चलते है उस मोड़ पर जहाँ हम तुम्हारे और तुम हमारे कुछ ना लगते थे।

चलो वापस चलते है उस मोड़ पर जहाँ हम तुम्हारे और तुम हमारे कुछ ना लगते थे।

जायज है उनका यूँ हमसे बेहिसाब नफ़रत करना भी, कभी उन्हें बेहिसाब मोहब्बत जो हुआ करती थी हमसे।

जायज है उनका यूँ हमसे बेहिसाब नफ़रत करना भी, कभी उन्हें बेहिसाब मोहब्बत जो हुआ करती थी हमसे।

हम मिले दोबारा उन्हीं राहों में, हमने भी ये फैसला मंजूर कर लिया।

हम मिले दोबारा उन्हीं राहों में, हमने भी ये फैसला मंजूर कर लिया।

अगर हम दोस्त होते तो साथ होते, वो इश्क़ ही था, जिसने हमें जुदा किया।

अगर हम दोस्त होते तो साथ होते, वो इश्क़ ही था, जिसने हमें जुदा किया।

उसने हमको बीच रास्तेै मे छोड़ दिया, फिर भी ये दिल उस्सेा नफरत करने कि इजाजत आज भी नही देता।

उसने हमको बीच रास्तेै मे छोड़ दिया, फिर भी ये दिल उस्सेा नफरत करने कि इजाजत आज भी नही देता।

खुशी के मिलने का अब कोई भी रास्ता ना रहा, नींद से भी आजकल मेरा कोई वास्ता ना रहा।

खुशी के मिलने का अब कोई भी रास्ता ना रहा, नींद से भी आजकल मेरा कोई वास्ता ना रहा।

जायज है मेरा उन्हें यूँ बेहिसाब याद करना भी, आजकल वो मेरे प्यार का हिसाब जो नहीं रखते।

जायज है मेरा उन्हें यूँ बेहिसाब याद करना भी, आजकल वो मेरे प्यार का हिसाब जो नहीं रखते।

तेरे बाद ख़ुदसे यही पूछता हूँ, कहीं फिर मिलें अगर तो क्या बात होगी।

तेरे बाद ख़ुदसे यही पूछता हूँ, कहीं फिर मिलें अगर तो क्या बात होगी।

साँसों से साँसे मिलाकर, जाने कितने वादे कर गए, फिर ऐसी बेवफ़ाई की, हम उन्हीं पलों में मर गए।

साँसों से साँसे मिलाकर, जाने कितने वादे कर गए, फिर ऐसी बेवफ़ाई की, हम उन्हीं पलों में मर गए।

जब तुम्हारे अंदर का अहंकार खत्म हो जाएगा, तब तुझे मेरे इश्क़ का कद्र समझ मे आएगा।

जब तुम्हारे अंदर का अहंकार खत्म हो जाएगा, तब तुझे मेरे इश्क़ का कद्र समझ मे आएगा।

देखा पलट के फिर आँसू गिरा दिया, कोई मजबूरी ही होगी जो कह गई भूला दिया।

देखा पलट के फिर आँसू गिरा दिया, कोई मजबूरी ही होगी जो कह गई भूला दिया।

कोई गिला नहीं, कोई शिकवा नहीं, तुझे माफ़ किया, तेरी सजा यही।

कोई गिला नहीं, कोई शिकवा नहीं, तुझे माफ़ किया, तेरी सजा यही।

न जाने क्यों फर्क नही पड़ता अब उसको, एक पल का भी सब्र नही था पहले जिसको।

न जाने क्यों फर्क नही पड़ता अब उसको, एक पल का भी सब्र नही था पहले जिसको।

अब तुम्हें क्या बताऊँ, कैसा हाल है मेरा उसके बिन, रो-रो कटती हैं मेरी रातें और रात हो जाता है ये दिन।

अब तुम्हें क्या बताऊँ, कैसा हाल है मेरा उसके बिन, रो-रो कटती हैं मेरी रातें और रात हो जाता है ये दिन।

तेरा धोखा भी मंजूर था, तेरा छोड़ना भी मंजूर था, इक बारी बाता तो देता, मुझे तो मेरा मरना भी मंजूर था।

तेरा धोखा भी मंजूर था, तेरा छोड़ना भी मंजूर था, इक बारी बाता तो देता, मुझे तो मेरा मरना भी मंजूर था।

रोया नहीं रुलाया गया हूँ पसंद बन कर ठुकराया गया हूँ।

रोया नहीं रुलाया गया हूँ पसंद बन कर ठुकराया गया हूँ।

जब कोई अपना दूसरो के करीब होने लगता है, तब दूरियों का एहसास भी ज़्यादा होने लगता है।

जब कोई अपना दूसरो के करीब होने लगता है, तब दूरियों का एहसास भी ज़्यादा होने लगता है।

कोई गिला कोई शिकवा कोई मलाल मत रखना, जब मिले हम दोबारा तो कोई सवाल मत रखना।

कोई गिला कोई शिकवा कोई मलाल मत रखना, जब मिले हम दोबारा तो कोई सवाल मत रखना।

मैं कहाँ जानता था अश्क़ हैं खारे, तेरे बाद जो होठों पर आने लगे।

मैं कहाँ जानता था अश्क़ हैं खारे, तेरे बाद जो होठों पर आने लगे।

मुस्कुराती है वो, अब भी मेरा नाम सुनकर, प्यार की कुछ किस्तें शायद अब भी बाकी है।

मुस्कुराती है वो, अब भी मेरा नाम सुनकर, प्यार की कुछ किस्तें शायद अब भी बाकी है।

बेहिसाब मोहब्बत तो मैंने की उससे, उस शख़्स ने सिर्फ़ मेरी नक़ल उतारी।

बेहिसाब मोहब्बत तो मैंने की उससे, उस शख़्स ने सिर्फ़ मेरी नक़ल उतारी।

बेहद दर्द वो देकर मुझको, अब मेरे हाल है पूंछ रहा, ज़ालिम अब मासूम सा बनकर, ज़ख्मो को मेरे कुरेद रहा।

बेहद दर्द वो देकर मुझको, अब मेरे हाल है पूंछ रहा, ज़ालिम अब मासूम सा बनकर, ज़ख्मो को मेरे कुरेद रहा।

वह लोग जो एक दफा मुड़ कर भी ना देखे, उनकी याद आज भी रुला जाती है।

वह लोग जो एक दफा मुड़ कर भी ना देखे, उनकी याद आज भी रुला जाती है।

अपने ही आँसुओ से अपने घर को सींचा है, कैसे बताऊं तेरे जाने से मेरा दिल कितना पसीजा है।

अपने ही आँसुओ से अपने घर को सींचा है, कैसे बताऊं तेरे जाने से मेरा दिल कितना पसीजा है।

लाख कोशिश करने के बाद उसे भुला हूँ, जिसका नाम अभी याद आ रहा है।

लाख कोशिश करने के बाद उसे भुला हूँ, जिसका नाम अभी याद आ रहा है।

तुझसे अब बात तक करने को तरस गए हैं हम, बिन मौसम हुई बारिश की तरह बरस गए हैं हम।

तुझसे अब बात तक करने को तरस गए हैं हम, बिन मौसम हुई बारिश की तरह बरस गए हैं हम।

वक़्त कितना ही लगता है किसी को भूल जाने में, बस कुछ दिनों के आँसु और ज़िन्दगी भर की मौत।

वक़्त कितना ही लगता है किसी को भूल जाने में, बस कुछ दिनों के आँसु और ज़िन्दगी भर की मौत।

बात न हो तो चलता है, पर साथ न हो तो खलता है।

बात न हो तो चलता है, पर साथ न हो तो खलता है।

यकीन नहीं होता आप बेवफ़ा हो, शायद मुझसे ही कोई भूल हुई होगी।

यकीन नहीं होता आप बेवफ़ा हो, शायद मुझसे ही कोई भूल हुई होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here