दोस्ती की भूख उस दिन मिट गई, जिस दिन से मैंने धोका खाया है।

दोस्ती की भूख उस दिन मिट गई, जिस दिन से मैंने धोका खाया है।

टूट गए दोस्ती और प्यार के धागे, सबकी औकात छोटी रह गई व्यापार के आगे।

टूट गए दोस्ती और प्यार के धागे, सबकी औकात छोटी रह गई व्यापार के आगे।

ज़िन्दगी के आगे कभी ऐसी सूरत नहीं पड़ी, मुझे दोस्तों के रहते कभी दुश्मनों की ज़रुरत नहीं पड़ी।

ज़िन्दगी के आगे कभी ऐसी सूरत नहीं पड़ी, मुझे दोस्तों के रहते कभी दुश्मनों की ज़रुरत नहीं पड़ी।

दुश्मनों ने जख्म करे कुछ दोस्तों ने जख्म करे, दुश्मनों के जख्म भर गए दोस्तों के दिए जख्म रह गए सारे के सारे।

दुश्मनों ने जख्म करे कुछ दोस्तों ने जख्म करे, दुश्मनों के जख्म भर गए दोस्तों के दिए जख्म रह गए सारे के सारे।

दोस्ती पर से भरोसा मेरा उस दिन से उठ गया, जिस दिन से दोस्तों ने बेमतलब साथ बैठना छोड़ दिया।

दोस्ती पर से भरोसा मेरा उस दिन से उठ गया, जिस दिन से दोस्तों ने बेमतलब साथ बैठना छोड़ दिया।

ऐ खुदा, कोई तो मिले ऐतबार के काबिल, अब तो दोस्त भी धोखा देते है प्यार के खातिर।

ऐ खुदा, कोई तो मिले ऐतबार के काबिल, अब तो दोस्त भी धोखा देते है प्यार के खातिर।

दोस्ती टूटना अब अंजाम हो चुकी है, दग़ाबाज़ी दोस्ती का दूसरा नाम हो चुकी है।

दोस्ती टूटना अब अंजाम हो चुकी है, दग़ाबाज़ी दोस्ती का दूसरा नाम हो चुकी है।

मेरी दोस्ती की ख़ूबसूरती बदसूरत हो गई, उन्होंने तब-तब साथ छोड़ा जब जब मुझे उनकी सबसे ज्यादा ज़रुरत हो गई।

मेरी दोस्ती की ख़ूबसूरती बदसूरत हो गई, उन्होंने तब-तब साथ छोड़ा जब जब मुझे उनकी सबसे ज्यादा ज़रुरत हो गई।

बहुत रंगीन ये ज़माना हर शख्स ने रंग दिखाया हैं, दग़ाबाज़ी करना हमे दोस्तों ने सिखाया है।

बहुत रंगीन ये ज़माना हर शख्स ने रंग दिखाया हैं, दग़ाबाज़ी करना हमे दोस्तों ने सिखाया है।

खुदा के सिवा किसी से आस मत रखना, वफ़ा और दोस्ती पर कभी विशवास मत करना।

खुदा के सिवा किसी से आस मत रखना, वफ़ा और दोस्ती पर कभी विशवास मत करना।

एक दुश्मन दगाबाज़ दोस्त से सच्चा होता है, कम से कम उसका इरादा तो सच्चा होता है।

एक दुश्मन दगाबाज़ दोस्त से सच्चा होता है, कम से कम उसका इरादा तो सच्चा होता है।

आज ज़िन्दगी ने मुझे चौंका दिया, मैंने जिन्हे दोस्त समझा था उन्होंने मुझे दुश्मन बन कर धोका दिया।

आज ज़िन्दगी ने मुझे चौंका दिया, मैंने जिन्हे दोस्त समझा था उन्होंने मुझे दुश्मन बन कर धोका दिया।

हर वक़्त मेरी जुबां पर दोस्ती का ही नाम आया, पर मेरे बुरे वक़्त में कोई दोस्त मेरे काम ना आया।

हर वक़्त मेरी जुबां पर दोस्ती का ही नाम आया, पर मेरे बुरे वक़्त में कोई दोस्त मेरे काम ना आया।

जो दोस्त मुँह के आगे प्यार करते है, अक्सर पीठ पीछे वही वार करते हैं।

जो दोस्त मुँह के आगे प्यार करते है, अक्सर पीठ पीछे वही वार करते हैं।

वो ढूंढ रहे थे मुझसे पीछा छुड़ाने का तरीक़ा, मैंने खफा होकर उनकी राह आसान कर दी।

वो ढूंढ रहे थे मुझसे पीछा छुड़ाने का तरीक़ा, मैंने खफा होकर उनकी राह आसान कर दी।

जब अच्छा वक़्त था तो दुश्मन भी दोस्त बन गए, जब बुरा वक़्त आया तो दोस्त भी दुश्मन हो गए।

जब अच्छा वक़्त था तो दुश्मन भी दोस्त बन गए, जब बुरा वक़्त आया तो दोस्त भी दुश्मन हो गए।

दिल टूट जाए दोस्ती पर इतना ऐतबार मत करो, जीना मुश्किल हो जाए किसी से इतना प्यार मत करो।

दिल टूट जाए दोस्ती पर इतना ऐतबार मत करो, जीना मुश्किल हो जाए किसी से इतना प्यार मत करो।

अच्छा चलता हूँ दोस्तों मतलब हो तो ज़रूर याद करना।

अच्छा चलता हूँ दोस्तों मतलब हो तो ज़रूर याद करना।

सो दुशमन कम है एक दगाबाज़ दोस्त के आगे, दुशमन सीने पर वार करेगा दगाबाज़ दोस्त पीठ पर।

सो दुशमन कम है एक दगाबाज़ दोस्त के आगे, दुशमन सीने पर वार करेगा दगाबाज़ दोस्त पीठ पर।

दोस्ती के दिन बस चार होते हैं, पांचवे दिन पता लग जाता है सारे गद्दार होते हैं।

दोस्ती के दिन बस चार होते हैं, पांचवे दिन पता लग जाता है सारे गद्दार होते हैं।

दोस्त ने मुझे तब काफी बातें सीखा दी, जब उसने मुझे अपनी औकात दिखा दी।

दोस्त ने मुझे तब काफी बातें सीखा दी, जब उसने मुझे अपनी औकात दिखा दी।

दोस्ती के अब मतलब बदल गये है, जब से मतलब की दोस्ती होने लगी है।

दोस्ती के अब मतलब बदल गये है, जब से मतलब की दोस्ती होने लगी है।

दोस्ती में धोका खाना आम हो गया है, मेरे लिए दोस्ती दग़ाबाज़ी का पहला नाम हो गया है।

दोस्ती में धोका खाना आम हो गया है, मेरे लिए दोस्ती दग़ाबाज़ी का पहला नाम हो गया है।

दोस्ती प्यार नहीं सौदेबाज़ी है, दोस्ती साथ नहीं धोकेबाज़ी है।

दोस्ती प्यार नहीं सौदेबाज़ी है, दोस्ती साथ नहीं धोकेबाज़ी है।

दुश्मनों को देखा है हमने दिल से रिश्ते निभाने का हुनर, दोस्तों में हमने बस दग़ाबाज़ी देखी है।

दुश्मनों को देखा है हमने दिल से रिश्ते निभाने का हुनर, दोस्तों में हमने बस दग़ाबाज़ी देखी है।

जो दोस्ती हकीकत लग रही थी वो सब ख़्वाब निकले, जिन्हे मानता था सच्चा साथी वो सारे सांप निकले।

जो दोस्ती हकीकत लग रही थी वो सब ख़्वाब निकले, जिन्हे मानता था सच्चा साथी वो सारे सांप निकले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here