अक्सर बुरी सीरतों की सूरतें भी हसीन हुआ करती हैं, संभलना लोग भरोसे पर छुरी चलाते कतराते नहीं हैं।

अक्सर बुरी सीरतों की सूरतें भी हसीन हुआ करती हैं, संभलना लोग भरोसे पर छुरी चलाते कतराते नहीं हैं।

आज शाम हुई कल फिर सूरज निकलेगा, भरोसा रख अपने आप पर हर पल तू निखरेगा।

आज शाम हुई कल फिर सूरज निकलेगा, भरोसा रख अपने आप पर हर पल तू निखरेगा।

अब ज़रा सा भी किसी पर भरोसा नही होता हैं, और जब भी होता हैं दर्द बड़ा ही बेहद होता हैं।

अब ज़रा सा भी किसी पर भरोसा नही होता हैं, और जब भी होता हैं दर्द बड़ा ही बेहद होता हैं।

एक बार फ़िर शक भरोसे से सबूत मांग रहा है, हँस रही है क़िस्मत, फ़िर एक रिश्ता दफ़न हो रहा है।

एक बार फ़िर शक भरोसे से सबूत मांग रहा है, हँस रही है क़िस्मत, फ़िर एक रिश्ता दफ़न हो रहा है।

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे, कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे।

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे, कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे।

नसीब से ज्यादा भरोसा तुम पर किया, फिर भी नसीब इतना नहीं बदला जितना तुम बदल गयी।

नसीब से ज्यादा भरोसा तुम पर किया, फिर भी नसीब इतना नहीं बदला जितना तुम बदल गयी।

जिंदगी का भरोसा नहीं कब तक साथ निभाएगी, पर मौत पर ऐतबार है एक दिन ज़रूर आएगी।

जिंदगी का भरोसा नहीं कब तक साथ निभाएगी, पर मौत पर ऐतबार है एक दिन ज़रूर आएगी।

भरोसा तब नहीं टूटता जब कोई रूठ जाता है, भरोसा तब टूटता है जब कोई दिल तोड़ जाता है।

भरोसा तब नहीं टूटता जब कोई रूठ जाता है, भरोसा तब टूटता है जब कोई दिल तोड़ जाता है।

भरोसे के बाज़ार में जिंदगी बेची थी मैंने, तब जा के कहीं पाया हैं ये लेहजा मैंने।

भरोसे के बाज़ार में जिंदगी बेची थी मैंने, तब जा के कहीं पाया हैं ये लेहजा मैंने।

भरोसा कर लिया है मैंने तेरे झूठ पर भी, तुझे खुदा जो माना है।

भरोसा कर लिया है मैंने तेरे झूठ पर भी, तुझे खुदा जो माना है।

बात भरोसे की ना कर ऐ दिल तू किसी गैर से, मौसम से ज्यादा, इन्ही लोगों को बदलते देखा है मैंने।

बात भरोसे की ना कर ऐ दिल तू किसी गैर से, मौसम से ज्यादा, इन्ही लोगों को बदलते देखा है मैंने।

झड़ गए पत्ते उम्मीदों के सारे, मग़र जड़ भरोसे की मजबूत बहुत है।

झड़ गए पत्ते उम्मीदों के सारे, मग़र जड़ भरोसे की मजबूत बहुत है।

क्यो भरोसा करू किसी और पर, जब खुद की आखे खुद को धोखा दे।

क्यो भरोसा करू किसी और पर, जब खुद की आखे खुद को धोखा दे।

रोक लो नैनों को लकीरें भी बह जाएंगीं वरना, आज रोक लो हमेंकल का भरोसा मत करना।

रोक लो नैनों को लकीरें भी बह जाएंगीं वरना, आज रोक लो हमेंकल का भरोसा मत करना।

यूं तो हर गुनाह का कफ़ारा नहीं होता, उठ जाए जो एक दफा भरोसा दुबारा नहीं होता।

यूं तो हर गुनाह का कफ़ारा नहीं होता, उठ जाए जो एक दफा भरोसा दुबारा नहीं होता।

गिर पड़े उस पत्थर से टकरा कर ज़मीं पर हम, भरोसे की नीव कह जिसे कभी अपनों ने रखा था।

गिर पड़े उस पत्थर से टकरा कर ज़मीं पर हम, भरोसे की नीव कह जिसे कभी अपनों ने रखा था।

प्यार और भरोसा दो ऐसे पंछी हैं, अगर इनमें से एक उड़ जाए तो, दूसरा अपने आप उड़ जाता है।

प्यार और भरोसा दो ऐसे पंछी हैं, अगर इनमें से एक उड़ जाए तो, दूसरा अपने आप उड़ जाता है।

अब इन लहरो पर क्या भरोसा करूं, जब वो मेरे विपरीत ही चल रही है, मुझे तो इन हवाओं पर भरोसा है, जो मेरे पतवार को सहारा दे रही है।

अब इन लहरो पर क्या भरोसा करूं, जब वो मेरे विपरीत ही चल रही है, मुझे तो इन हवाओं पर भरोसा है, जो मेरे पतवार को सहारा दे रही है।

रिश्ते दिल टूटने पर नहीं भारोसा टूटने पर बिखरते है।

रिश्ते दिल टूटने पर नहीं भारोसा टूटने पर बिखरते है।

ना रुक ना झुक, रख भरोसा बस चलता जा, मंज़िल ना मिले तब तक बस बढ़ता जा।

ना रुक ना झुक, रख भरोसा बस चलता जा, मंज़िल ना मिले तब तक बस बढ़ता जा।

वहम था मेरा जो तुम पर भरोसा किया, लोगों ने तो सिर्फ दिल तोड़ा था, तुमने तो मेरा रूह निचोड़ दिया।

वहम था मेरा जो तुम पर भरोसा किया, लोगों ने तो सिर्फ दिल तोड़ा था, तुमने तो मेरा रूह निचोड़ दिया।

उसकी हँसी पर क्या भरोसा करना, जो शख़्स खुलकर कभी रोया न हो।

उसकी हँसी पर क्या भरोसा करना, जो शख़्स खुलकर कभी रोया न हो।

कोई भरोसे के लिए रोता है, कोई भरोसा करके रोता है।

कोई भरोसे के लिए रोता है, कोई भरोसा करके रोता है।

भरोसा खुद पर रखो तो ताकत बन जाती है, और दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है।

भरोसा खुद पर रखो तो ताकत बन जाती है, और दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है।

आजकल न जाने कब बदल जाए इंसान भरोसा नहीं, कहते हैं जो भरोसा करो हम पर, अक्सर भरोसा तोड़ते हैं वहीं।

आजकल न जाने कब बदल जाए इंसान भरोसा नहीं, कहते हैं जो भरोसा करो हम पर, अक्सर भरोसा तोड़ते हैं वहीं।

सब पर भरोसा है, पर कुछ नहीं हासिल है, जिस तरफ पीठ करो, वहीं खड़ा कातिल है।

सब पर भरोसा है, पर कुछ नहीं हासिल है, जिस तरफ पीठ करो, वहीं खड़ा कातिल है।

भरोसा रख मुहब्बत पर, मुहब्बत रंग लाएगी ज़माना हार जाएगा, मुहब्बत जीत जाएगी।

भरोसा रख मुहब्बत पर, मुहब्बत रंग लाएगी ज़माना हार जाएगा, मुहब्बत जीत जाएगी।

जब सब तोल रहे थे मुझे ना उम्मीदी के तराज़ू में, एक वही तो था जिसने भरोसा जताया मुझ में।

जब सब तोल रहे थे मुझे ना उम्मीदी के तराज़ू में, एक वही तो था जिसने भरोसा जताया मुझ में।

बेशक किसी को माफ बार-बार करो, लेकिन भरोसा सिर्फ एक बार करो।

बेशक किसी को माफ बार-बार करो, लेकिन भरोसा सिर्फ एक बार करो।

जिंदगी की सबसे अनमोल चीज भरोसा, जितनी आसानी से होता नहीं, उतनी आसानी से टूट जरूर जाता है।

जिंदगी की सबसे अनमोल चीज भरोसा, जितनी आसानी से होता नहीं, उतनी आसानी से टूट जरूर जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here