आदमी अपने जन्म से नहीं अपने कर्मों से महान होता है।

आदमी अपने जन्म से नहीं अपने कर्मों से महान होता है।

समय का कोई मूल्य नहीं है, इससे लाभ उठाने वाले ही आगे बढ़ते हैं।

समय का कोई मूल्य नहीं है, इससे लाभ उठाने वाले ही आगे बढ़ते हैं।

जिस शत्रु से आप को जान का खतरा हो उसे ताकत से कुचल देना चाहिए।

जिस शत्रु से आप को जान का खतरा हो उसे ताकत से कुचल देना चाहिए।

मुर्ख लोगो से वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हम अपना ही समय नष्ट करते है।

मुर्ख लोगो से वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हम अपना ही समय नष्ट करते है।

हाथी को अंकुश से, घोड़े को चाबुक से, सींग वाले पशुओं को डंडे से और दुर्जन व्यक्ति को तलवार से दंड देना चाहिए।

हाथी को अंकुश से, घोड़े को चाबुक से, सींग वाले पशुओं को डंडे से और दुर्जन व्यक्ति को तलवार से दंड देना चाहिए।

वह जो भलाई को लोगो के दिलो में सभी के लिए विकसित करता चला जाता है। वह आसानी से अपने लक्ष्य प्राप्ति के एक-एक कदम आगे बढ़ता चला जाता है।

वह जो भलाई को लोगो के दिलो में सभी के लिए विकसित करता चला जाता है। वह आसानी से अपने लक्ष्य प्राप्ति के एक-एक कदम आगे बढ़ता चला जाता है।

मूर्ख लोग कार्यों के मध्य कठिनाई उत्पन्न होने पर दोष ही निकाला करते हैं।

मूर्ख लोग कार्यों के मध्य कठिनाई उत्पन्न होने पर दोष ही निकाला करते हैं।

आग, पानी, सांप और राजा इन सब से मित्रता करने से घाटा ही घाटा है क्योंकि यह क्रोध में आकर प्राणी की जान भी ले सकते हैं।

आग, पानी, सांप और राजा इन सब से मित्रता करने से घाटा ही घाटा है क्योंकि यह क्रोध में आकर प्राणी की जान भी ले सकते हैं।

अन्न के सिवाय कोई दूसरा धन नहीं है।

अन्न के सिवाय कोई दूसरा धन नहीं है।

शत्रु की दुर्बलता जानने तक उसे अपना मित्र बनाए रखें।

शत्रु की दुर्बलता जानने तक उसे अपना मित्र बनाए रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here