संसार के सभी धर्म सच्चे है, उनमे कोई भिन्नता नहीं है, वो बस एक मंज़िल पर जाने के अलग-अलग रास्ते है।

संसार के सभी धर्म सच्चे है, उनमे कोई भिन्नता नहीं है, वो बस एक मंज़िल पर जाने के अलग-अलग रास्ते है।

पवित्र पुस्तकों में कई अच्छी बातें कही जा सकती हैं, लेकिन केवल उन्हें पढ़ने से कोई धार्मिक नहीं होगा।

पवित्र पुस्तकों में कई अच्छी बातें कही जा सकती हैं, लेकिन केवल उन्हें पढ़ने से कोई धार्मिक नहीं होगा।

सत्य के द्वारा ही ईश्वर को महसूस कर सकता है।

सत्य के द्वारा ही ईश्वर को महसूस कर सकता है।

सत्य बताते समय बहुत ही एक्राग और नम्र होना चाहिए, क्योकि सत्य के माध्यम से भगवान का अहसास किया जा सकता हैं।

सत्य बताते समय बहुत ही एक्राग और नम्र होना चाहिए, क्योकि सत्य के माध्यम से भगवान का अहसास किया जा सकता हैं।

शुद्ध ज्ञान और शुद्ध प्रेम एक ही चीज हैं। ज्ञान और प्रेम से जिस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता हैं वो एक ही हैं और इसमें भी प्रेम वाला रास्ता ज्यादा आसान है।

शुद्ध ज्ञान और शुद्ध प्रेम एक ही चीज हैं। ज्ञान और प्रेम से जिस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता हैं वो एक ही हैं और इसमें भी प्रेम वाला रास्ता ज्यादा आसान है।

भगवान हर जगह है और कण-कण में हैं, 
लेकिन वह एक आदमी में ही सबसे अधिक प्रकट होते है, 
इस स्थिति में भगवान के रूप में आदमी की सेवा ही भगवान की सबसे अच्छी पूजा है।

भगवान हर जगह है और कण-कण में हैं, लेकिन वह एक आदमी में ही सबसे अधिक प्रकट होते है, इस स्थिति में भगवान के रूप में आदमी की सेवा ही भगवान की सबसे अच्छी पूजा है।

यदि आप पागल ही बनना चाहते हैं तो सांसारिक वस्तुओं के लिए मत बनो, बल्कि भगवान के प्यार में पागल बनों।

यदि आप पागल ही बनना चाहते हैं तो सांसारिक वस्तुओं के लिए मत बनो, बल्कि भगवान के प्यार में पागल बनों।

ईश्वर का अटूट प्रेम आवश्यक वस्तु है। बाकी सब असत्य है।

ईश्वर का अटूट प्रेम आवश्यक वस्तु है। बाकी सब असत्य है।

गंदा दर्पण सूरज की किरणों को कभी नहीं दर्शाता, 
इसी तरह से जो लोग अशुद्ध हैं उनमे प्रभु की महिमा कभी भी नहीं दिखती है।

गंदा दर्पण सूरज की किरणों को कभी नहीं दर्शाता, इसी तरह से जो लोग अशुद्ध हैं उनमे प्रभु की महिमा कभी भी नहीं दिखती है।

भगवान को सभी पथो और माध्यमों के द्वारा महसूस किया जा सकता हैं, सभी धर्म सच्चे और सही हैं। महत्वपूर्ण बात यह यह कि उस तक पहुँच पाते हैं या नहीं। आप वहां तक जानें के लिए कोई भी रास्ता अपना सकते हैं रास्ता महत्व नहीं रखता

भगवान को सभी पथो और माध्यमों के द्वारा महसूस किया जा सकता हैं, सभी धर्म सच्चे और सही हैं। महत्वपूर्ण बात यह यह कि उस तक पहुँच पाते हैं या नहीं। आप वहां तक जानें के लिए कोई भी रास्ता अपना सकते हैं रास्ता महत्व नहीं रखता


सत्य बताते समय बहुत ही एक्राग और नम्र होना चाहिए क्योकि सत्य के माध्यम से भगवान का अहसास किया जा सकता हैं।

सत्य बताते समय बहुत ही एक्राग और नम्र होना चाहिए क्योकि सत्य के माध्यम से भगवान का अहसास किया जा सकता हैं।

संसार के सभी धर्म सच्चे है उनमे कोई भिन्नता नहीं है, 
वो बस एक मंज़िल पर जाने के अलग-अलग रास्ते है।

संसार के सभी धर्म सच्चे है उनमे कोई भिन्नता नहीं है, वो बस एक मंज़िल पर जाने के अलग-अलग रास्ते है।

बंधन तो मन का है और स्वतंत्रता भी मन की है। 
यदि आप कहते हैं कि मैं एक मुक्त आत्मा हूँ, 
मैं परमेश्वर का पुत्र हूँ और वो ही मुझे बाँध सकते है तो तुम निश्चय ही स्वतन्त्र हो जाओगे।

बंधन तो मन का है और स्वतंत्रता भी मन की है। यदि आप कहते हैं कि मैं एक मुक्त आत्मा हूँ, मैं परमेश्वर का पुत्र हूँ और वो ही मुझे बाँध सकते है तो तुम निश्चय ही स्वतन्त्र हो जाओगे।

शुद्ध ज्ञान और शुद्ध प्रेम एक ही चीज हैं। ज्ञान और प्रेम से जिस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता हैं वो एक ही हैं और इसमें भी प्रेम वाला रास्ता ज्यादा आसान है।

शुद्ध ज्ञान और शुद्ध प्रेम एक ही चीज हैं। ज्ञान और प्रेम से जिस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता हैं वो एक ही हैं और इसमें भी प्रेम वाला रास्ता ज्यादा आसान है।

संसार के विषयों का ज्ञान, सामान्य रूप से इंसान को ज़िद्दी बना देता है ज्ञान का अभिमान एक बंधन है।

संसार के विषयों का ज्ञान, सामान्य रूप से इंसान को ज़िद्दी बना देता है ज्ञान का अभिमान एक बंधन है।

जब हम पीड़ित और गरीब होते है तब हम पूछते है, मैं ही क्यूँ? 
लेकिन अगर हम अमीर और समृद्ध होते तो क्या हम पूछते, मैं ही क्यूँ?

जब हम पीड़ित और गरीब होते है तब हम पूछते है, मैं ही क्यूँ? लेकिन अगर हम अमीर और समृद्ध होते तो क्या हम पूछते, मैं ही क्यूँ?

धर्म पर बात करने के लिए आसान है, लेकिन यह अभ्यास करने के लिए मुश्किल है।

धर्म पर बात करने के लिए आसान है, लेकिन यह अभ्यास करने के लिए मुश्किल है।

यह जीवन अल्पकालीन है ये विलासिता क्षणिक है लेकिन जो दुसरो के लिए जीते है वो वास्तविकता में जीते है।

यह जीवन अल्पकालीन है ये विलासिता क्षणिक है लेकिन जो दुसरो के लिए जीते है वो वास्तविकता में जीते है।

भक्ति या भगवान के प्रेम से अलावा काम असहाय है।

भक्ति या भगवान के प्रेम से अलावा काम असहाय है।

भगवान से प्रार्थना करते हैं कि धन, नाम और प्राणी आराम के रूप में इस तरह के अस्थायी बातें करने के लिए आपका लगाव हर दिन कम से कम हो।

भगवान से प्रार्थना करते हैं कि धन, नाम और प्राणी आराम के रूप में इस तरह के अस्थायी बातें करने के लिए आपका लगाव हर दिन कम से कम हो।

बिना सत्य बोले तो भगवान को प्राप्त ही नहीं किया जा सकता, क्योंकि सत्य ही भगवान हैं।

बिना सत्य बोले तो भगवान को प्राप्त ही नहीं किया जा सकता, क्योंकि सत्य ही भगवान हैं।

जब तक मैं जीवित हूं, तब तक मैं सीखता हूं।

जब तक मैं जीवित हूं, तब तक मैं सीखता हूं।

जो मनुष्य दूसरों के लिए, बिना किसी स्वार्थ के मकसद के लिए काम करता है, वह वास्तव में खुद का भला करता है।

जो मनुष्य दूसरों के लिए, बिना किसी स्वार्थ के मकसद के लिए काम करता है, वह वास्तव में खुद का भला करता है।

भगवान की कृपा की हवा हमेशा बह रही है, यह हमारे लिए है कि हम अपनी पाल बढ़ाएं।

भगवान की कृपा की हवा हमेशा बह रही है, यह हमारे लिए है कि हम अपनी पाल बढ़ाएं।

जब दिव्य दृष्टि प्राप्त होती है, तो सभी समान दिखाई देते हैं, और अच्छे और बुरे, या उच्च और निम्न का कोई भेद नहीं रहता है।

जब दिव्य दृष्टि प्राप्त होती है, तो सभी समान दिखाई देते हैं, और अच्छे और बुरे, या उच्च और निम्न का कोई भेद नहीं रहता है।

अगर आपको पागल होना है तो दुनिया की चीजों के लिए नहीं, भगवान के प्यार में पागल हो।

अगर आपको पागल होना है तो दुनिया की चीजों के लिए नहीं, भगवान के प्यार में पागल हो।

धर्म की बात तो हर कोई करता है, लेकिन उसे अपने आचरण में लाना सबके बस की बात नहीं है।

धर्म की बात तो हर कोई करता है, लेकिन उसे अपने आचरण में लाना सबके बस की बात नहीं है।

भगवान से प्रार्थना करें कि धन, नाम, और जीव आराम जैसी ऐसी क्षणभंगुर चीजों के प्रति आपका लगाव हर दिन कम से कम हो जाए।

भगवान से प्रार्थना करें कि धन, नाम, और जीव आराम जैसी ऐसी क्षणभंगुर चीजों के प्रति आपका लगाव हर दिन कम से कम हो जाए।

ईश्वर सभी पुरुषों में है, लेकिन सभी पुरुष ईश्वर में नहीं हैं। इसलिए हम पीड़ित हैं।

ईश्वर सभी पुरुषों में है, लेकिन सभी पुरुष ईश्वर में नहीं हैं। इसलिए हम पीड़ित हैं।

जब फूल खिलता है तो मधुमक्खी बिना बुलाए आ जाती है, वैसे ही हम जब प्रसिद्द होंगे तो लोग बिना बताए ही हमारा गुणगान करने लगेगे।

जब फूल खिलता है तो मधुमक्खी बिना बुलाए आ जाती है, वैसे ही हम जब प्रसिद्द होंगे तो लोग बिना बताए ही हमारा गुणगान करने लगेगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here