अगर आपको लगता है कि आपका दिमाग पढाई में सही से नहीं कर सकता, आपकी रूचि नहीं है, आपकी रूचि बिज़नस में है तो बिज़नस ही करे और अगर आपको लगता है कि पढने में आपको मज़ा आता है केवल दिखने के लिए नहीं बल्कि आपकी रूचि है तो आपके लिए पढाई करने के अलावा और कोई बेटर आप्शन हो ही नहीं सकता।

अगर आपको लगता है कि आपका दिमाग पढाई में सही से नहीं कर सकता, आपकी रूचि नहीं है, आपकी रूचि बिज़नस में है तो बिज़नस ही करे और अगर आपको लगता है कि पढने में आपको मज़ा आता है केवल दिखने के लिए नहीं बल्कि आपकी रूचि है तो आपके लिए पढाई करने के अलावा और कोई बेटर आप्शन हो ही नहीं सकता।

हमें यह सोच बदलनी होगी कि अगर यह मेरा जो बच्चा है, उसका इन टॉप कॉलेज में एडमिशन हुआ तो इसका मतलब अच्छा है, उसकी लाइफ बन गई और अगर नहीं होता तो उसकी लाइफ बिगड़ गई।
-संदीप माहेश्वरी

हमें यह सोच बदलनी होगी कि अगर यह मेरा जो बच्चा है, उसका इन टॉप कॉलेज में एडमिशन हुआ तो इसका मतलब अच्छा है, उसकी लाइफ बन गई और अगर नहीं होता तो उसकी लाइफ बिगड़ गई। -संदीप माहेश्वरी

बिज़नस में न दो तरह के लोग होते है, एक होते है जो बाते करते है बड़ी-बड़ी कि जब हजार प्रोडक्ट बिक जाएगी तब ये हो जाएगा वो हो जाएगा लाख रूपए कमाउगा इतने प्रोडक्ट बेच दूंगा वगेरा। मेरे को जब कोई ऐसा मिलता है उसे बोलता हु भाई तेरा पहला प्रोडक्ट कैसे बिकेगा और उसके पास कोई जवाब नहीं होता जबकि जवाब यह होना चाहिए कि एक कैसे बिकेगा, अगर एक बिकेगा तो 100 भी बिकेगा 1000 भी बिकेगा।

बिज़नस में न दो तरह के लोग होते है, एक होते है जो बाते करते है बड़ी-बड़ी कि जब हजार प्रोडक्ट बिक जाएगी तब ये हो जाएगा वो हो जाएगा लाख रूपए कमाउगा इतने प्रोडक्ट बेच दूंगा वगेरा। मेरे को जब कोई ऐसा मिलता है उसे बोलता हु भाई तेरा पहला प्रोडक्ट कैसे बिकेगा और उसके पास कोई जवाब नहीं होता जबकि जवाब यह होना चाहिए कि एक कैसे बिकेगा, अगर एक बिकेगा तो 100 भी बिकेगा 1000 भी बिकेगा।

जिस नजरो से आप इस दुनिया को देखना चाहेगे ये दुनिया आपको वैसी ही दिखेगी।
-संदीप माहेश्वरी

जिस नजरो से आप इस दुनिया को देखना चाहेगे ये दुनिया आपको वैसी ही दिखेगी। -संदीप माहेश्वरी

कभी भी अपने आप को कम मत समझिये आप उससे भी बढ़कर है जितना आप सोचते है।
-संदीप माहेश्वरी

कभी भी अपने आप को कम मत समझिये आप उससे भी बढ़कर है जितना आप सोचते है। -संदीप माहेश्वरी

जो लोग अपनी सोच नहीं बदल सकते वे कुछ नहीं बदल सकते।
-संदीप माहेश्वरी

जो लोग अपनी सोच नहीं बदल सकते वे कुछ नहीं बदल सकते। -संदीप माहेश्वरी

आप जो कुछ भी चाहते है वह आपके अंदर ही है अपने अंदर देखिये और आप सब कुछ पा लेंगे।
-संदीप माहेश्वरी

आप जो कुछ भी चाहते है वह आपके अंदर ही है अपने अंदर देखिये और आप सब कुछ पा लेंगे। -संदीप माहेश्वरी

आप चाहे डॉक्टर बनने वाले हो, इंजिनियर बनने वाले हो, उस हद तक अपने काम में एफर्ट डाल दो जितना आज तक पूरी दुनिया में किसी ने नहीं लगाया हो।
-संदीप माहेश्वरी

आप चाहे डॉक्टर बनने वाले हो, इंजिनियर बनने वाले हो, उस हद तक अपने काम में एफर्ट डाल दो जितना आज तक पूरी दुनिया में किसी ने नहीं लगाया हो। -संदीप माहेश्वरी

मेरे सारे सेशन का सार बहार की दुनिया से नहीं, अन्दर की दुनिया से कैसे लड़ना है यह है।
-संदीप माहेश्वरी

मेरे सारे सेशन का सार बहार की दुनिया से नहीं, अन्दर की दुनिया से कैसे लड़ना है यह है। -संदीप माहेश्वरी

दुनिया का सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग!
-संदीप माहेश्वरी

दुनिया का सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग! -संदीप माहेश्वरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here