good_night30

मुझे रुला कर सोना तो तेरी आदत बन गई है,
जिस दिन मेरी आँख ना खुली, तुझे निंद से नफरत हो जायेगी।

good_night123

तू जहाँ भी रहे वहाँ मेरी दुआओं की छाँव हो,
वो शहर हो फिर चाहे गाँव हो,

तेरी आँखों में कभी कोई गम ना हो, 
बस यही दुआ है हमारी कि तेरी खुशियां कभी कम ना हो।

good_night60

बहक जाती है नींद आखिर क्यों उनकी याद में, 
कुछ तो राज़ ज़रुर है इन काली काली रात में।

good_night10

रात में कोई याद आता हैं, तारो में कोई खो जाता हैं,
ख़्वाबों में कोई बह जाता हैं, आप भी इंजॉय करो अपने हिसाब से।

good_night77

हर रास्ता एक सफर चाहता है, हर मुसाफिर एक हमसफ़र चाहता है, 
जैसे चाहती है चांदनी चाँद को, कोई है जो आपको इस कदर चाहता है।

Good Night!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here