सबसे बड़ा गुरु मंत्र, अपने राज किसी को भी मत बताओ। ये तुम्हे खत्म कर देगा।

सबसे बड़ा गुरु मंत्र, अपने राज किसी को भी मत बताओ। ये तुम्हे खत्म कर देगा।

दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है।

दोषहीन कार्यों का होना दुर्लभ होता है।

जो नारी अपने पति का कहना नहीं मानती और व्रत रखती है, ऐसी नारियां अपने पति की आयु कम करती है। ऐसी नारियों को यह सोचना चाहिए कि पति की आज्ञा के बिना चलना उनके लिए कभी भी लाभदायक नहीं हो सकता। उनके लिए स्वर्ग की प्राप्ति केवल पति की सेवा से ही संभव है।

जो नारी अपने पति का कहना नहीं मानती और व्रत रखती है, ऐसी नारियां अपने पति की आयु कम करती है। ऐसी नारियों को यह सोचना चाहिए कि पति की आज्ञा के बिना चलना उनके लिए कभी भी लाभदायक नहीं हो सकता। उनके लिए स्वर्ग की प्राप्ति केवल पति की सेवा से ही संभव है।

विचार अथवा मंत्रणा को गुप्त ना रखने पर कार्य नष्ट हो जाता है।

विचार अथवा मंत्रणा को गुप्त ना रखने पर कार्य नष्ट हो जाता है।

होनी को कोई नहीं टाल सकता वह तो अटल है इस संसार की कोई भी शक्ति उसे नहीं टाल सकती।

होनी को कोई नहीं टाल सकता वह तो अटल है इस संसार की कोई भी शक्ति उसे नहीं टाल सकती।

दुष्ट की मित्रता से शत्रु की मित्रता अच्छी होती है।

दुष्ट की मित्रता से शत्रु की मित्रता अच्छी होती है।

वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है, अर्थात दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते हैं।

वन की अग्नि चन्दन की लकड़ी को भी जला देती है, अर्थात दुष्ट व्यक्ति किसी का भी अहित कर सकते हैं।

अनुभवहीन आदमी के लिए तो शस्त्र केवल एक जहर के समान है।

अनुभवहीन आदमी के लिए तो शस्त्र केवल एक जहर के समान है।

संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है, और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है।

संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है, और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है।

सूर्य के प्रकाश के सामने दीपक का कोई मोल नहीं है, इसी तरह अमीर आदमी को दान देने से कोई लाभ नहीं है, दान हमेशा उसे ही दो जो गरीब हो।

सूर्य के प्रकाश के सामने दीपक का कोई मोल नहीं है, इसी तरह अमीर आदमी को दान देने से कोई लाभ नहीं है, दान हमेशा उसे ही दो जो गरीब हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here