जिन्हें भाग्य पर विश्वास नहीं होता, उनके कार्य पुरे नहीं होते।

जिन्हें भाग्य पर विश्वास नहीं होता, उनके कार्य पुरे नहीं होते।

बुद्धि सदा अज्ञानता को नष्ट करती है, बुद्धिमान व्यक्ति कभी भूखा नहीं मरता।

बुद्धि सदा अज्ञानता को नष्ट करती है, बुद्धिमान व्यक्ति कभी भूखा नहीं मरता।

जिस देश में आदर नहीं, जीने के साधन नहीं, विद्या प्राप्त करने के स्थान नहीं, वहां पर रहने का कोई लाभ नहीं।

जिस देश में आदर नहीं, जीने के साधन नहीं, विद्या प्राप्त करने के स्थान नहीं, वहां पर रहने का कोई लाभ नहीं।

सारस की तरह एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इन्द्रियों पर नियंत्रण रखना चाहिए और अपने उद्देश्य को स्थान की जानकारी, समय और योग्यता के अनुसार प्राप्त करना चाहिए।

सारस की तरह एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इन्द्रियों पर नियंत्रण रखना चाहिए और अपने उद्देश्य को स्थान की जानकारी, समय और योग्यता के अनुसार प्राप्त करना चाहिए।

वृद्धजन की सेवा ही विनय का आधार है।

वृद्धजन की सेवा ही विनय का आधार है।

एक राजा की ताकत उसकी शक्तिशाली भुजाओं में होती है। ब्राह्मण की ताकत उसके आध्यात्मिक ज्ञान में और एक औरत की ताक़त उसकी खूबसूरती, यौवन और मधुर वाणी में होती है।

एक राजा की ताकत उसकी शक्तिशाली भुजाओं में होती है। ब्राह्मण की ताकत उसके आध्यात्मिक ज्ञान में और एक औरत की ताक़त उसकी खूबसूरती, यौवन और मधुर वाणी में होती है।

दूसरो की गलतियो से सीखो अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने पर तुम्हारी आयु कम पड़ जायेंगी।

दूसरो की गलतियो से सीखो अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने पर तुम्हारी आयु कम पड़ जायेंगी।

जब विनाश के दिन आते हैं तो बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है।

जब विनाश के दिन आते हैं तो बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है।

जिसकी आत्मा संयमित होती है, वही आत्मविजयी होता है।

जिसकी आत्मा संयमित होती है, वही आत्मविजयी होता है।

व्यसनी व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकता।

व्यसनी व्यक्ति कभी सफल नहीं हो सकता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here