तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम क्या लाए थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यहीं से लिया, जो दिया यहीं पर दिया, जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का होगा। क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।

तुम्हारा क्या गया जो तुम रोते हो, तुम क्या लाए थे जो तुमने खो दिया, तुमने क्या पैदा किया था जो नष्ट हो गया, तुमने जो लिया यहीं से लिया, जो दिया यहीं पर दिया, जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का होगा। क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।

नरक के तीन द्वार हैं वासना, क्रोध और लालच।

नरक के तीन द्वार हैं वासना, क्रोध और लालच।

मैं सभी प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूँ।

मैं सभी प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूँ।

वह जो इस ज्ञान में विश्वास नहीं रखते, मुझे प्राप्त किये बिना जन्म और मृत्यु के चक्र का अनुगमन करते हैं।

वह जो इस ज्ञान में विश्वास नहीं रखते, मुझे प्राप्त किये बिना जन्म और मृत्यु के चक्र का अनुगमन करते हैं।

कर्म योग वास्तव में एक परम रहस्य है।

कर्म योग वास्तव में एक परम रहस्य है।

काम कोर्ध और लोभ नर्क के तीन द्धार है।

काम कोर्ध और लोभ नर्क के तीन द्धार है।

हे अर्जुन! मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है,जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।

हे अर्जुन! मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है,जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।

केवल मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।

केवल मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।

आत्मा को शास्त्र नहीं काट सकते, अग्नि नहीं जला सकती, जल नहीं गाला सकता, वायु नहीं सूखा सकती।

आत्मा को शास्त्र नहीं काट सकते, अग्नि नहीं जला सकती, जल नहीं गाला सकता, वायु नहीं सूखा सकती।

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और।

सदैव संदेह करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में है ना ही कहीं और।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here