पीठ पीछे कौन क्या बोलता है फर्क नहीं पड़ता, सामने किसी का मुंह नहीं खुलता इतना काफी है।

पीठ पीछे कौन क्या बोलता है फर्क नहीं पड़ता, सामने किसी का मुंह नहीं खुलता इतना काफी है।

सुन पगले जहां पर तेरा एट्टिटयूड खत्म होता है, वहां से मेरा चालू होता है।

सुन पगले जहां पर तेरा एट्टिटयूड खत्म होता है, वहां से मेरा चालू होता है।

अगर मेरी किसी बात का तुम्हे बुरा लगे तो, ये सोचकर भूल जाना कि तुम कौन सा मेरा कुछ बिगाड़ सकते हो

अगर मेरी किसी बात का तुम्हे बुरा लगे तो, ये सोचकर भूल जाना कि तुम कौन सा मेरा कुछ बिगाड़ सकते हो

आज भी मैँ अकेली हूँ, नसीब ही ख़राब है, मेरा नहीं लड़को का आज तक कोई इम्प्रैस ही नहीं कर पाया।

आज भी मैँ अकेली हूँ, नसीब ही ख़राब है, मेरा नहीं लड़को का आज तक कोई इम्प्रैस ही नहीं कर पाया।

फ्री में हम किसी को गाली तक नहीं देते पगले, स्माइल तो बहुत दूर की बात है।

फ्री में हम किसी को गाली तक नहीं देते पगले, स्माइल तो बहुत दूर की बात है।

सुनो तुम्हारे दिल की एकलौती वारिस बनी रहू, बस ये ही आखिरी ख़्वाईश है मेरी।

सुनो तुम्हारे दिल की एकलौती वारिस बनी रहू, बस ये ही आखिरी ख़्वाईश है मेरी।

मासूमियत तो रग रग में है मेरे, बस ज़ुबान की ही बद्तमीज़ हूँ।

मासूमियत तो रग रग में है मेरे, बस ज़ुबान की ही बद्तमीज़ हूँ।

तेरा एट्टिटयूड मेरे सामने चिल्लर है, क्यूंकि मेरी स्माईल ज्यादा ही किलर है।

तेरा एट्टिटयूड मेरे सामने चिल्लर है, क्यूंकि मेरी स्माईल ज्यादा ही किलर है।

जियो का नेट और लड़कों की फ्रैंड रिक्वेस्ट, कभी कम नहीं होती।

जियो का नेट और लड़कों की फ्रैंड रिक्वेस्ट, कभी कम नहीं होती।

दिल के अरमान आंसूओं में बह गए, हम इतने क्यूट होकर भी तनहा रह गए।

दिल के अरमान आंसूओं में बह गए, हम इतने क्यूट होकर भी तनहा रह गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here