अकेलापन एक सज़ा सी है, लेकिन इसमें जीने में भी अपना अलग ही मज़ा है।

अकेलापन एक सज़ा सी है, लेकिन इसमें जीने में भी अपना अलग ही मज़ा है।

सुन अकेला रहना और अकेलेपन में रहना, वैसा ही होता है जैसे की मुस्कुराना और गम में रहना।

सुन अकेला रहना और अकेलेपन में रहना, वैसा ही होता है जैसे की मुस्कुराना और गम में रहना।

अब इस भीड़ में जीना दुश्वार सा लगता है, अकेलापन ही अब जैसे संसार सा लगता है, औरों से मिली मोहब्बत में वो मज़ा कहां जनाब, अब तो ख़ुद में ही खो जाना ही प्यार सा लगता है।

अब इस भीड़ में जीना दुश्वार सा लगता है, अकेलापन ही अब जैसे संसार सा लगता है, औरों से मिली मोहब्बत में वो मज़ा कहां जनाब, अब तो ख़ुद में ही खो जाना ही प्यार सा लगता है।

आज जो इस अकेलेपन का एहसास हुआ खुद को, तो समहाल नहीं पाया अपने इन आसुओं को।

आज जो इस अकेलेपन का एहसास हुआ खुद को, तो समहाल नहीं पाया अपने इन आसुओं को।

ख़ुद में ख़ुद का वजूद ढूंढता हूँ मैं, भीड़ में भी तन्हा समझता हूँ खुद को मैं। बस एक तेरी कमी कुछ ऐसी है ज़िन्दगी में, अब सब कुछ पाकर भी बदनसीब समझता हूँ खुद को मैं ।

ख़ुद में ख़ुद का वजूद ढूंढता हूँ मैं, भीड़ में भी तन्हा समझता हूँ खुद को मैं। बस एक तेरी कमी कुछ ऐसी है ज़िन्दगी में, अब सब कुछ पाकर भी बदनसीब समझता हूँ खुद को मैं ।

अब सहारे की कोई बात मत कर ऐ जालिम जिंदगी, मेरा अकेलापन ही काफी है मुझे सहारा देने के लिए।

अब सहारे की कोई बात मत कर ऐ जालिम जिंदगी, मेरा अकेलापन ही काफी है मुझे सहारा देने के लिए।

लिखने का कोई शौक नहीं मुझे, बस खुद को यु उलझाए रखा है इसमें, क्योंकि इस अकेलेपन में तो बस सिर्फ उसकी याद आती हैं।

लिखने का कोई शौक नहीं मुझे, बस खुद को यु उलझाए रखा है इसमें, क्योंकि इस अकेलेपन में तो बस सिर्फ उसकी याद आती हैं।

मुझे मेरा अकेलापन ही कुछ ज्यादा भाता है, इन खोखले बनावटी रिश्तों के बीच दिल घबराता है।

मुझे मेरा अकेलापन ही कुछ ज्यादा भाता है, इन खोखले बनावटी रिश्तों के बीच दिल घबराता है।

जनाब इतने मतलबी भी मत बन जाओ, कि तुम्हें अब दूसरों का अकेलापन भी नजर ना आ पाए, और इतना अच्छा भी मत बन जाओ, कि तुम्हें दूसरों की बुराई भी नजर ना आ पाए।

जनाब इतने मतलबी भी मत बन जाओ, कि तुम्हें अब दूसरों का अकेलापन भी नजर ना आ पाए, और इतना अच्छा भी मत बन जाओ, कि तुम्हें दूसरों की बुराई भी नजर ना आ पाए।

वो दूर का सितारा दूर हो कर भी अब अपना सा लगता है, क्यूंकि जनाब मेरे इस अकेलेपन को वो अकेलापन मेहसूस ही नहीं होने देता है।

वो दूर का सितारा दूर हो कर भी अब अपना सा लगता है, क्यूंकि जनाब मेरे इस अकेलेपन को वो अकेलापन मेहसूस ही नहीं होने देता है।

वो अकेला चाँद है आसमा मे जो तेरी तरह हजारो मे, मगर वो चाँद अकेला है मेरी तरह उन सितारो मे।

वो अकेला चाँद है आसमा मे जो तेरी तरह हजारो मे, मगर वो चाँद अकेला है मेरी तरह उन सितारो मे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here