यूँ ही बेवजह न मुझे वो खोजता होगा, शायद उसे भी ये अकेलापन नोचता होगा।

यूँ ही बेवजह न मुझे वो खोजता होगा, शायद उसे भी ये अकेलापन नोचता होगा।

हमारे इस अकेलेपन ने हमें जीना सीखा दिया, बची हमारी ये हसीं तो उसे हमनें पहले ही भुला दिया।

हमारे इस अकेलेपन ने हमें जीना सीखा दिया, बची हमारी ये हसीं तो उसे हमनें पहले ही भुला दिया।

हमारे जैसे लोग कभी किसी से रूठा नही करते है, क्योंकि हमें पता होता है की हमे मनाने वाला कोई नहीं है इस ज़माने में।

हमारे जैसे लोग कभी किसी से रूठा नही करते है, क्योंकि हमें पता होता है की हमे मनाने वाला कोई नहीं है इस ज़माने में।

इस अकेलेपन ने एक बात तो सीखा दी हैं, दिखावे की नज़दीकीयां से तो हकीक़त की दूरिया अच्छी हैं।

इस अकेलेपन ने एक बात तो सीखा दी हैं, दिखावे की नज़दीकीयां से तो हकीक़त की दूरिया अच्छी हैं।

जनाब कैसे मुकम्मल हो उस इश्क़ की दास्तां, जिसकी फितरत में ही अकेलापन होता है।

जनाब कैसे मुकम्मल हो उस इश्क़ की दास्तां, जिसकी फितरत में ही अकेलापन होता है।

भीड़ में ये अकेलापन मुझसे मिलने जब आया, क्या है ये अकेलापन मुझे समझ में तब आया।

भीड़ में ये अकेलापन मुझसे मिलने जब आया, क्या है ये अकेलापन मुझे समझ में तब आया।

कैसे बताऊं क्यूँ तेरी ये यादें यु चली आती हैं, कैसे बताऊं क्यूँ मुझे ये आके इतना रूला जाती हैं।

कैसे बताऊं क्यूँ तेरी ये यादें यु चली आती हैं, कैसे बताऊं क्यूँ मुझे ये आके इतना रूला जाती हैं।

अकेला हूँ और तन्हा भी पर गलत नही हूँ मैं, बस तुम पर अपना एकाधिकार समझ बैठा हूँ मैं।

अकेला हूँ और तन्हा भी पर गलत नही हूँ मैं, बस तुम पर अपना एकाधिकार समझ बैठा हूँ मैं।

जनाब खुद से खुद की पहचान करा देता है ये अकेलापन, लोगो के बीच आपकी एक अलग सी पहचान बना देता है ये अकेलापन।

जनाब खुद से खुद की पहचान करा देता है ये अकेलापन, लोगो के बीच आपकी एक अलग सी पहचान बना देता है ये अकेलापन।

किसी के दर्द में वो भी अपने ग़मों की झलक पाता है, बूढ़ा, लाचार, इंसान अक्सर अकेला ही रह जाता है।

किसी के दर्द में वो भी अपने ग़मों की झलक पाता है, बूढ़ा, लाचार, इंसान अक्सर अकेला ही रह जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here